स्कूलों में हो रहा है बाल अधिकारों का हनन , टीम एन एच आर सी सी बी, ब्यूरो ।

स्कूलों में हो रहा है बाल अधिकारों का हनन , टीम एन एच आर सी सी बी, ब्यूरो ।

buy prednisone for dogs बिरनी(गिरिडीह)-: बिरनी प्रखंड के उत्क्रमित उच्च विद्यालय सारंडा का निरीक्षण करने राष्ट्रीय मानवाधिकार अपराध नियंत्रण ब्यूरो के महासचिव राजेन्द्र प्रसाद वर्मा ,प्रदेश अध्य्क्ष श्री सिकंदर वर्मा व जिला अध्य्क्ष मुकेश कुमार पहुँचे । जहाँ उन्होंने निरीक्षण के दौरान पाया विद्यालय में शिक्षकों का घोर अभाव है।बताया जाता है, इलाके के प्राचीनतम विद्यालय में जगह बनाए रखने के बावजूद वर्तमान समय में यहाँ पर्याप्त शिक्षक नही है। तकरीबन चार सौ बच्चे विद्यालय में पठन पाठन करते है और इतने बच्चों के भविष्य निर्धारण करने के अहम समय की जिम्मेदारी महज 5 शिक्षकों के ऊपर है। इन शिक्षकों में एक शिक्षक हमेशा सरकारी कार्यों में ही लगा होता है । साथ ही उक्त विद्यालय में अभी तक सफाईकर्मी बहाल नही हो पाया है। जिससे भारी दिक्कतों के बीच कुछ चंद शिक्षक छात्र -छात्राओं के भविष्य निर्धारित करने का प्रयास करते देखे जा सकते है।

visit
आगे जहाँ स्कूलों में बच्चों के लिए दोपहर का भोजन समय 01:30 अपराह्न से 2:00 बजे अपराह्न तय किया गया है । वहीं उक्त विद्यालय में सरकारी नियमों को ताख पर रख कर राइट उल्लंघन के साथ अढाई बजे वितरित करते सुना पाया गया था।
स्थिति बदहाली के आलम से गुजरते हुए भयावह रूप धारण कर चुकी थी। भोजन में पौष्टिकता तो दूर भोजन समय का भी ध्यान नहीं रखते देखा गया। जाँच के दौरान ब्यूरो के महासचिव मुख्य रूप से मध्यान भोजन के अवधि के शिकायत पर ही पहुँचे थे पर वहाँ उनके साथ पहुँचे ब्यूरो के अन्य सदस्यों ने भी कई अन्य खामियों को देखा।
आगे ब्यूरो के महासचिव कुछ देर और मौके पर विद्यालय में डटे रहे। उन्होंने सासमय बच्चों में भोजन वितरण करवाने का कार्य किया। आगे देखने को मिला भोजन के बाद बच्चों से ही बर्तन की सफाई करवाया जाता है, जो बाल अधिकारों का हनन के अंतर्गत आता है। बिफरे हुए महासचिव ने ब्यूरो के राज्य बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्षा श्रीमती आरती कुजूर से बात की तो उन्होंने अनभिज्ञता जताई और साथ ही ब्यूरो महासचिव से बिस्तृत रिपोर्ट मांगी।इस दौरान बाल अधिकारों की रक्षा के साथ कोई समझौता नहीं करने की बात भी दोहराई।सभी बातें स्कूल के प्रधानाचार्य से हुई जो पूर्णतः सत्य पाई गई।

my explanation टीम एन एच आर सी सी बी

Add Comment